0

http://www.entranceindia.com/wp-content/uploads/2013/03/aiimsindia.jpgनयी दिल्ली -- देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे और चिकित्सा शिक्षा को मजबूत बनाने के एक कदम के रूप में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री  जे पी नड्डा ने  नई दिल्ली स्थित एम्स में, एम्स ट्रॉमा सेंटर के विस्तारीकरण को मंजूरी दे दी है।

इसके विस्तारीकरण के भाग के रूप में एम्स को दिल्ली विकास प्राधिकरण द्वारा 15 एकड़ भूमि का आवंटन किया गया है। विस्तारीकरण की इस योजना में पाचन रोग के केंद्र, एन्डोक्रिनोलॉजी केंद्र, ईएनटी केंद्र, स्पाइन सेंटर, मज्जा प्रत्यारोपण केंद्र और किडनी प्रत्यारोपण केंद्र शामिल है।


1841 बिस्तरों की क्षमता वाली इस परियोजना की अनुमानित लागत 2700 करोड़ रुपये की है। बिस्तरों की कुल संख्या में ट्रॉमा(445), पाचन (465), ईएनटी (334), एन्डोक्रिनोलॉजी (244), बीएमटी (88), किडनी (63) और स्पाइन (रीढ़)(202) के लिए बिस्तर निर्धारित किए गए हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार करने के लिए मंत्रालय द्वारा विभिन्न कदम उठाए जा रहे हैं। राज्यों में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के उन्नयन के साथ ट्रॉमा सेंटर का विस्तार करना भी इसी का एक हिस्सा है।

एम्स ट्रॉमा सेंटर का विस्तारीकरण हरित इमारत की अवधारणा पर आधारित है। इसमें पर्याप्त उर्जा प्रबंधन तथा जल प्रबंधन शामिल होगा। भविष्य में इमारत में स्वास्थ्य पर्यावरण की गुणवत्ता बहाली और संरक्षण, प्राकृतिक प्रणालियों का सुदृढीकरण, स्वास्थ्य और इनडोर सुविधाओं की गुणवत्ता संरक्षण, जीवन चक्र लागत के विश्लेषण जैसी विभिन्न विशेषताएं होंगी।

 नड्डा ने कहा, "इस अवधारणा के माध्यम से हम ऊर्जा और पानी की खपत कम करने के अपने पर्यावरणीय दायित्वों को भी पूरा कर सकेंगे। इससे इन संस्थानों में स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं की गुणवत्ता में सुधार लाने में मदद मिलेगी।” 

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top