0
नयी दिल्ली --- रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर ने यहां एक भव्य समारोह में भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) के जवानों को वीरता और सराहनीय सेवा पदकों से अलंकृत किया। इस अवसर पर रक्षा मंत्रालय और भारतीय तटरक्षक बल के वरिष्ठ अधिकारी और उनके परिवार के सदस्य उपस्थित थे।

इस अवसर पर बोलते हुए रक्षा मंत्री ने पुरस्कार विजेताओं और उनके परिवारों की खुलकर सराहना की। देश की विशाल समुद्री सीमाओं की सुरक्षा को बनाए रखने में भारतीय तटरक्षक बल के सराहनीय प्रयासों की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि तटरक्षक बल प्रगति की राह पर है। 

 पर्रिकर ने भारतीय तटरक्षक बल के लड़ाकू (कांबेट) भूमिकाओं के महिलाओं को आगे लाने की पहल की सराहना की। इसमें महिला पायलटों द्वारा डोर्नियर विमानों की सफल उड़ान शामिल है। जल्द ही महिलाएं एसीवी (एयर कुशन पोत) का संचालन करती दिखेंगी। इस समय वे आईसीजीएस मंडपम में प्रशिक्षण ले रही हैं।

रक्षा मंत्री से विजेताओं को अलंकृत करने से पहले औपचारिक गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण किया। बल के कुल 34 अधिकारियों वीरता और सराहनीय सेवा पदकों से अलंकृत किया गया है। इसमें एक राष्ट्रपति तटरक्षक पदक (पीटीएम) (वीरता), चार पीटीएम (विशिष्ट सेवा), 19 तटरक्षक पदक (टीएम) और 10 तटरक्षक पदक (सराहनीय सेवा) के लिए प्रदान किए गए हैं।

ये पदक नि:स्वार्थ निष्ठा, अनुकरणीय साहस और विपरीत परिस्थितियों में तटरक्षक बल के अधिकारियों एवं जवानों की वीरता के कृत्यों को मिली मान्यता हैं। भारतीय तटरक्षक बल में वीरता के लिए सर्वोच्च पुरस्कार राष्ट्रपति तटरक्षक पदक (पीटीएम) है। इसके बाद तटरक्षक पद (टीएम) आता है।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top