0
नयी दिल्ली -- चौथा भारत-अफ्रीका हाइड्रोकार्बन सम्‍मेलन (आईएएचसी) 21-22 जनवरी, 2016 को नई दिल्‍ली में आयोजित किया जायेगा। 

http://www.yespunjab.com/images/national1/India-Africa-Flag-Nat1.jpgइस सम्‍मेलन का उद्देश्‍य हाइड्रोकार्बन क्षेत्र में भारत एवं अफ्रीकी महाद्वीप के बीच सहयोग में और ज्‍यादा वृद्धि करना है। विकास से जुड़ी भागीदारी के फलस्‍वरूप भारत के लिए अपनी ऊर्जा सुरक्षा को बढ़ाना संभव हो पायेगा। 

वहीं, दूसरी ओर अफ्रीका के हाइड्रोकार्बन क्षेत्र का विकास कई मोर्चों पर हो पायेगा, जिनमें क्षमता सृजन, पर्यावरण का स्‍थायित्‍व, मानव संसाधन विकास और रोजगार सृजन शामिल हैं।

चौथे भारत-अफ्रीका हाइड्रोकार्बन सम्‍मेलन का उद्देश्‍य अवसरों की तलाश करना और भारत एवं अफ्रीका के बीच द्विपक्षीय व्‍यापार को बढ़ावा देना है। यह सम्‍मेलन अफ्रीकी देशों के ऊर्जा म‍ंत्रियों एवं प्रतिनिधियों को अपने विजन को साक्षा करने और आने वाले दिनों में अपेक्षाकृत ज्‍यादा ऊर्जा सहयोग के लिए खाका तैयार करने हेतु एक वैश्विक मंच प्रदान करेगा।

इस सम्‍मेलन में 22 अफ्रीकी देशों के भाग लेने की संभावना है। इनमें से नौ देशों का प्रतिनिधित्‍व उनके मंत्री करेंगे। इनमें अल्जीरिया, मोरक्को, मॉरीशस, लाइबेरिया, सूडान, ट्यूनीशिया और सेनेगल भी शामिल हैं। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान 21 जनवरी, 2016 को उद्घाटन भाषण देंगे। 

यह सम्‍मेलन 22 जनवरी, 2016 को समाप्‍त होगा और विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्‍वराज समापन भाषण देंगी। अफ्रीकी देशों का प्रतिनिधित्‍व करने वाले मंत्रियों के साथ श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान की द्विपक्षीय बैठकें भी होंगी।

Post a Comment Blogger Disqus

 
Top